Sunday, October 30, 2011


जिंदगी ने खुशियों को पुकारा है
सदा मुस्कुराओ तुम, तुम्हारा हर गम हमारा है
फूल खिलते रहे जीवन मे तुम्हारे,
कांटो के लिए दामन हमारा है
फूल बन कर मुस्कुराना भी ज़िन्दगी है,
मुस्कुरा कर ग़म भुलाना भी ज़िन्दगी है,
जीत कर खुश हुए तो क्या,
हार कर मुस्कुराना भी ज़िन्दगी है